जैन समाज के दो बड़े संतों का होगा आगमन,दो दिन तक बहेगी धर्म की गंगा

photo-05झाबुआ। आगामी 10 एवं 11 मई को सकल जैन श्वेतांबर श्री संघ के दो बड़े संतों का शहर में आगमन हो रहा है। अंर्तराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त आध्यात्मिक योगी, महान तपस्वी, श्रमण संघ के चतुर्थ पट्ठधर आचार्य भगवंत डाॅ. शिवमुनिजी मसा का कालीदेवी की ओर से एवं राष्ट्रीय संत परम् श्रद्धेय गणि श्री राजेन्द्र विजयजी मसा का रानापुर की ओर से झाबुआ शहर में भव्य मंगल प्रवेश होगा।

यह जानकारी देते हुए इंदौर पब्लिक स्कूल के एडवायजरी बोर्ड के सदस्य यशवंत भंडारी ने बताया कि मानव मात्र को ज्ञान, ध्यान और योग से धर्म पथ की ओर निरंतर अग्रसर करने वाले परम् पूज्य आचार्य डाॅ. शिवमुनिजी के साथ परम् सेवाभावी संत युवाचार्य पूज्य महेन्द्रऋषिजी मसा, आचार्यश्री की प्रतिछाया के प्रतीक स्वरूप पूज्य शिरीष मुनिजी मसा के साथ संत मंडल कालीदेवी से विहार करते हुए झाबुआ नगर के बाहर इंदौर-अहमदाबाद हाईवे स्थित इंदौर पब्लिक स्कूल के भवन में प्रवेश करेंगे।

ये होंगे मुख्य कार्यक्रम

श्री भंडारी ने बताया कि पूज्य आचार्य डॉ. शिवमुनिजी 10 मई, रविवार को दोपहर 2 से 4 बजे तक धर्म गोष्ठी में भाग लेगे तथा अगले दिन 11 मई, सोमवार को प्रातः 9 बजे विशाल धर्मसभा को संबोधित करेंगे। धर्मसभा में आपके साथ परम् श्रद्धेय गणि राजेन्द्र विजयजी मसा भी उपस्थित रहेंगे। इसके पश्चात् दोपहर साढ़े 11 बजे से समस्त नमस्कार महामंत्र के आराधक साधर्मी बंधुओं एवं जिले की प्रमुख हस्तियांे को आमंत्रित कर विशाल गौतम प्रसादी (साधर्मी वात्सल्य) का आयोजन भी रखा गया है। आईपीएस के संस्थापक अचल कुमुद चैधरी संपूर्ण कार्यक्रमों के आयोजक है।

समाज सुधारक संत का भी होगा मंगल प्रवेश

जैन श्वेतांबर श्री संघ पेढ़ी श्री ऋषभदेव बावन जिनालय के आयोजन समिति के अध्यक्ष मनोहर मोदी ने बताया कि 10 मई को ही गुजरात के प्रसिद्ध आदिवासी समाज सुधारक, व्यसन मुक्ति के प्रणेता, कुशल वक्ता, प्रभावी लेखक, सुखी परिवार संस्था के संस्थापक राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त गणिवर्य राजेन्द्र विजयजी मसा भी प्रथम बार मप्र की सीमा में प्रवेश करते हुए शहर में पधारेंगे। पूज्य मुनिश्री ने गुजरात प्रांत के कवाट ग्राम में एकलव्य आवासीय विद्यालय एवं बलूद ग्राम में ब्राह्राी सुंदर कन्या छात्रावास तथा सुखी परिवार जीव दया गौशाला जैसे अंर्तराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्थाओं की स्थापना की है। जिसमें प्रतिवर्ष क्षेत्र के हजारों आदिवासी छात्र-छात्राएं अच्छी शिक्षा के साथ अच्छे धार्मिक संस्कार ग्रहण कर रहे है। श्री मोदी ने आगे बताया कि पूज्य मुनिराज ने 5 मई को गुजरात के कवाट ग्राम से पैदल विहार प्रारंभ किया तथा वे 7 मई को खट्टाली ग्राम में प्रवेश करेंगे। 8 मई को जोबट नगर से होते हुए 9 मई को रानापुर नगर में प्रवेश करेंगे। 10 मई को सुबह 9 बजे झाबुआ शहर में उनका आगमन होगा। सभी संतों के मंगल प्रवेश को भव्याति भव्य बनाने हेतु तैयारियां की जा रहीं है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.