गांवों में तैयार होगा सामुदायिक नेतृत्व, मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व विकास क्षमता कार्यक्रम का शुभारंभ ।

P1080041

कार्यक्रम में विधायक शांतिलाल बिलवाल अपने विचार रखते हुए ।

झाबुआ पोस्ट । मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व क्षमता विकास कार्यक्रम का उद्घाटन समारोह रविवार को अकादमी रिसोर्स सेंटर झाबुआ में आयोजित किया गया । कार्यक्रम अतिथि के रूप में विधायक शांतिलाल बिलवाल, कलेक्टर अरूणा गुप्ता, जिला पंचायत साईओ धनराजू एस., सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग शंकुतला डामोर, जनअभियान परिषद् के संभागीय समन्वयक अमित शाह, जन अभियान परिषद के जिला उपाध्यक्ष शांतिलाल पालीवाल विशेष तौर पर मौजूद थे । कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती के चरणों पुष्प अर्पित कर एवं दीप प्रज्जवलन कर की गई ।

P1080012

दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए जिला पंचायत सीईओ धनराजू एस., एसी ट्राइबल शंकुतला डामोर, जनअभियान परिषद के संभागीय समन्वयक अमित शाह, जनअभियान परिषद के जिला उपाध्यक्ष शांतिलाल पालीवाल ।

झाबुआ विधायक शांतिलाल बिलवाल पाठ्यक्रम कहा कि किसी भी योजना की सफलता के लिए जरूरी है कि स्थानीय लोग उसमें रूचि लें । योजना की सफलता में सरकार से ज्यादा जनता का हाथ होता है ।  और ये कार्यक्रम समुदाय में नेतृत्व तैयार सरकार की विकास अवधारणा को लोगों तक पहुंचाने में मददगार साबित होगा । विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ये फ्लैगशिप कार्यक्रम है, इस कार्यक्रम के जरिये गांवों की तस्वीर समझने और उसमें नए रंग भरने में काफी मदद मिलेगी ।

इस अवसर पर कलेक्टर अरूणा गुप्ता ने सभी बधाई दी और कहा कि कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों और मेंटर्स पर काफी बड़ी जिम्मेदारी है, उम्मीद के मुताबिक इसके अपेक्षित परिणाम प्राप्त होंगे । समय-समय पर वे खुद इसमें अपना बहुमुल्य मार्गदर्शन प्रदान करेंगी ।

कार्यक्रम में जिला पंचायत साईओ धनराजू एस ने अपनी बात रखते हुए कहा कि ये कार्यक्रम एक अभिनव प्रयोग हैं, अभी तक जो योजनाएं बनती थी, उनका परिणाम एक जैसा प्राप्त नहीं होता था, क्योंकि जो कार्यक्रम किसी और जगह के लिए सही हो , हो सकता है वो झाबुआ में उतना कारगर नहीं हो, हर जगह की अपनी अलग भौगोलिक, सामाजिक आर्थिक स्थिति होती है ।  लेकिन इस कार्यक्रम के जरिये गांव की समस्याओं और विकास कैसे हो इसकी जानकारी शासन प्रशासन तक पहुंचेगी, ताकि गांव के लिए क्या जरूरी है, ये समुदाय ही तय कर सकें ।

कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए संभागीय समन्वयक जन अभियान परिषद के अमित शाह ने कहा कि इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों मे सामुदायिक नेतृत्व तैयार करना । कई लोगों में अपने गांव के विकास के लिए स्वाभाविक अनुराग होता है, जन अभियान परिषद ऐसे विद्यार्थियों को चयन कर उन्हें आदिम जाति कल्याण विभाग  के सहयोग से प्रशिक्षण प्रदान करेगा । ताकि वे अपने कि विभिन्न समस्याओं और विकास में आने वाली बाधाओं को पहचान कर गांव के लोगों के साथ ही उनका समाधान खोजने का प्रयास करेंगे ।      इस पाठ्यक्रम को बैचलर ऑफ सोशल वर्क (कम्यूनिटी लीडरशिप) नाम दिया गया है ।

P1080046

कार्यक्रम में मौजूद अधिकारी, मेंटर्स और विद्यार्थी ।

जनअभियान परिषद के जिला समन्यवक वीरेन्द्र ठाकुर ने बताया कि जिले के सभी विकासखंडों में 12 जुलाई से इस पाठ्यक्रम को शुरू किया जा रहा है, जहां प्रत्येक रविवार को विकासखंड के उत्कृष्ट विद्यालय में कक्षाओं का संचालन किया जाएगा । प्रत्येक ब्लॉक से 40 विद्यार्थियों का चयन किया गया है । झाबुआ में 40 विद्यार्थियों में 14 महिलाएं हैं शेष पुरूष हैं । इन 40 लोगों में से 39 लोग एसटी वर्ग से हैं ।

कार्यक्रम में बाईओ भारतसिंह सिकरवार, नगर मंडल अध्यक्ष गोपालसिंह पंवार, ब्लॉक समन्वयक दयाराम मुवेल भी मौजूद थे । इसके साथ अलग-अलग गांवों से चयनित विद्यार्थी भी उपस्थित हुए ।  कार्यक्रम के  अंत में पधारे सभी अतिथियों का आभार मेंटर्स शाईनी सिंह ने माना । कार्यक्रम का संचालन वीरेन्द्र सिंह राठौर ने किया ।

  • प्रत्येक रविवार को उत्कृष्ट विद्यालय पर कक्षाएं संचालित होंगी, उत्कृष्ट विद्यालय प्राचार्य मॉनिटरिंग करेंगी ।
  • विकासखंड से 40 विद्यार्थी चयनित किए गए हैं, जो अलग-अलग गांवों से हैं, इनमें से 14 महिलाएं हैं । इनसे उन विद्यार्थियों का चयन किया गया है जो 12 वीं कक्षा के बाद किसी कारणवश पढ़ाई छोड़ चुके थे ।
  • सैंद्धातिक शिक्षण के साथ-साथ प्रैक्टिकल भी होगा । खासकर प्रैक्टिल पर ज्यादा जोर रहेगा । विद्यार्थी गांवो का भ्रमण कर वहां की अगल-अलग योजनाओं और समस्याओं को लेकर रिपोर्ट तैयार करेंगे ।
  • पहले साल में स्वच्छ भारत अभियान पर जोर रहेगा । गांवों में शौचालय, व्यक्तिगत स्वच्छता, सामुदायिक स्वच्छता को लेकर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे ।
  • एक साल सफलता पूर्वक पुरा करने पर सर्टिफिकेट, दो साल पाठ्यक्रम निरंतर जारी रखने पर डिप्लोमा और पाठ्यक्रम के तीन वर्ष पूरे करने पर बैचलर ऑफ सोशल वर्क (कम्यूनिटी लीडरशीप) की डिग्री विद्यार्थियों को प्राप्त होगी ।
  • विद्यार्थियों के प्रशिक्षण के लिए एक विकासखंड से विषय विशेषज्ञ के रूप में 5 मेंटर्स का चयन किया गया है । जो महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्याल के निर्देशन में पाठ्यक्रम का पढ़ाएंगे ।
Advertisements


Categories: झाबुआ

Tags: , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.