आंखो देखी@नरेशप्रताप सिंह- भाजपा की बैठक में नज़र आया प्रदीप जोशी का ईगो, जिला कार्यकारिणी का दर्द, पेड़ मैन लाएगा जिले में सियासी सुखा और बीजेपी के महापुरूषों के आंसू ।

आंखो देखी@नरेशप्रताप सिंह- भाजपा की बैठक में नज़र आया प्रदीप जोशी का ईगो, जिला कार्यकारिणी का दर्द, पेड़ मैन लाएगा जिले में सियासी सुखा और बीजेपी के महापुरूषों के आंसू ।

 

 

 

प्रदीप जोशी का ईगो वाह भाई वाह !

भाजपा इन दिनों चुनावी दहलीज पर है और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक कह चुके हैं कि देव तुल्य कार्यकर्ताओं का सम्मान करना सीखें और उनसे प्रेमपूर्वक व्यवहार कर उनका दिल जीते ताकि गिले शिकवे दूर हो कर चुनावी नैय्या को पार लगाया जा सके, लेकिन लगता है कि 15 साल की सत्ता में भाजपा के संगठन मंत्रियों को अंहकारी बना दिया वे अपने सामने दूसरे का सम्मान तक करना भूल गये  हैं । इसका  ताजा उदाहारण 4 अगस्त को पेटलावद के निजी गार्डन में उस समय दिखा जब उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री  और अमित शाह की ओर से रतलाम संसदीय क्षेत्र के विशेष दूत स्वतंत्र देव सिह मिशन 2019 की फतह को लेकर कार्यकर्ताओं और बीजेपी पदाधिकारियों के बीच पहुंचे थे । यहां पर उज्जैन संभाग के संगठन मंत्री प्रदीप जोशी भी शोभा बढ़ा रहे थे , खाने की टेबल पर वे जिस  तरह से कार्यकर्ताओं को ट्रीट कर रहे थे वहां तक तो ठीक था लेकिन जब स्वतंत्र देव सिंह कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे उस समय लगा कि  प्रदीप जोशी का घमंड  सातवें आसमान पर पहुंच गया है ।  लगभग पांच मिनिट तक स्वतंत्र देव सिह प्रदीप जोशी का मुख्य गेट पर रास्ता देखते रहे लेकिन संगठन मंत्री के पद में मस्त प्रदीप जोशी मोबाईल से बात करते मदमस्त हाथी की तरह स्वतंत्र देवसिंह की ओर बढ़ते रहे  । प्रदीप जोशी की यह हरकत देख कर कर भले ही स्वतंत्र देव सिंह कुछ नहीं बोले लेकिन वहां पर उपस्थित कार्यकर्ता कहने लगे संगठन मंत्री का ईगो बाबा रे बाबा  !

 

 

करोड़पति पार्टी के कार्यक्रम में फटे हुए पितृ-पुरूष !

भाजपा के बारे मे कहा जाता है कि भाजपा देश की सबसे अमीर पार्टी है लेकिन इस अमीर पार्टी की हकीकत पेटलावद में आयोजित भाजपा की बैठक में दिखाई दी । कार्यक्रम में बीजेपी के पितृ-पुरूषों की तस्वीर लगाई गई थी, कार्यक्रम की शुरूआथ इन्हीं के आगे दीप जलाकर और पुष्प चढ़ाकर की गई ।

लेकिन बीजेपी आज जिन पुरूषों के बलिदान और त्याग से सत्ता के शिखर पर है, कार्यक्रम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय और पं. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की फटी हुई तस्वीरें पूजा के लिए रख दी गई । हालांकि गलती छुपाने के लिए टेप से चिपकाया गया । लेकिन फटे पर लाख पैबंद लगाओ दाग दिख ही जाता है ।  जब मीडिया ने बीजेपी के कर्णधारों से सवाल किया तो कहने लगे ऐसा कुछ नहीं है,  लाने-ले जाने में फट गई होगीं,  ये कोई गंभीर बात नहीं है । तो साफ है कि तीन जिलों की बैठक में बीजेपी के महापुरूषों के फटी तस्वीरें उनके अनुयायियों के लिए कोई गंभीर मसला नहीं है, बीजेपी भले ही इस गलती को ना माने लिए महापुरूषों की आत्मा जहां भी है सोचती तो जरूर होगी, कि कहां पर थे और कहां पर आ गए हम ।

 

पुलिस अधीक्षक की शिकायत, पेड़ मैन रहे तो  नहीं जीत सकते चुनाव !

भाजपा की बैठक में कार्यकर्ताओं ने स्वत्रंत देव सिह को पुलिस अधीक्षक की भी शिकायत की  ।  कई कार्यकर्ताओं ने शिकायत में कहा कि हाथीपावा की हरियाली बढ़ती जा रही है लेकिन  ऐसे ही हालात रहे तो जिले में पार्टी के लिए सियासी सुखा आ सकता है ।   स्वतंत्र देव सिंह को एक नहीं कई आला पदों पर बैठे बीजेपी पदाधिकारियों ने कहा कि मौजूदा हालात गंभीर है । आम लोगों की शिकायतों पर कोई ध्यान नहीं है  ।  कई कार्यकर्ताओं ने कहा की वर्तमान पुलिस अधीक्षक कार्यकर्ताओ की बात नहीं सुनते और कांग्रेस के कहने पर कई कार्यकर्ताओं को गलत मामले में फंसा दिया है । जिला संगठन भी इस समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा है । इससे कार्यकर्ता परेशान हैं यदि पुलिस अधीक्षक  के बारे में पार्टी संगठन ने विचार नहीं किया तो चुनाव में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है । स्वतंत्र देव सिंह ने भी कहा कि वे इस मुद्दे पर आलाकमान से बात करेंगे ।

 

आखिर क्यों नही बुलाया दौलत, मोटापाला और गौरसिंह को  ?

बैठक चूकिं  लोकसभा को लेकर थी लेकिन इस बैठक में पूर्व बीजेपी जिलाअध्यक्ष दौलत भावसार , सुरेन्द्रसिह मोटापाल और जिला सहकारी बैंक के चैयरमेन को नहीं बुलाया गया हांलाकि पार्टी सफाई दे रही की उन्हें बुलाया था लेकिन वे नही आये । बीजेपी नेता दौलत भावसार ने दूरभाष पर बताया कि उन्हें इसकी कोई सूचना नहीं है और वे इस वक्त उज्जैन में हैं । उन्हें नहीं बुलाने का कारण वर्तमान जिला अध्यक्ष ही बात सकते हैं ।

 

नहीं याद आये साल भर पहले दिए गए टिप्स । 

9 सितम्बर 2017 को बाफना पब्लिक स्कूल मेघनगर में स्वत्रंत देव सिंह ने कार्यकर्ताओ की स्पेशल क्लास लेते हुए बताया था कि किस तरह से संगठन का काम करना है, और मिशन 2019 में बीजेपी के कमल को खिलाना है ।  लेकिन आश्चर्य की बात  ये है कि 11 माह बाद आये स्वत्रंत देव सिंह के दिये टिप्स ही कार्यकर्ता भूल गये तो संगठन में भी नये जिला अध्यक्ष आ गये । अब हालात ऐसी हो गई की आगे नया पाठ और पीछे बिल्कुल सपाट । कुल मिला कर स्वत्रंत देव सिंह का यह दौरा जमीन हकीकत के बजाय फर्जी जानकारी का ज्यादा रहा हालांकि कार्यकर्ता भी दबी जुबान से कहने लगे कि 11 माह पहले क्या बोला था उन्हें याद नही तो स्वतत्र देवसिह को कहां से यादा होगा । है ना गजब की पार्टी भाजपा ।

ऐसे कैसे जीतेंगे लोकसभा ।

कहते है युद्ध में यदि देरी से पहुंचा जाय तो आधा युद्ध हारा जाना माना जाता है,  कुछ इसी तरह की चर्चा शनिवार को लोकसभा चुनाव की रणनीति को लेकर आयेाजित बैठक में कार्यकर्ताओं के बीच रही । 11 महीने बाद जिले में आने वाले स्वतंत्र देव सिंह 11 बजे पेटलावद पहुंचने वाले थे , लेकिन वे करीब ढाई घंटे की देरी से  पहुंचे और करीब इतने ही समय में कार्यकर्ताओं से  चर्चा कर वापस रवाना हो गए । इस पूरे टाइम मैनेजमेंट को  देखकर तो यह समझ में आता है कि या  तो वे खुद इस सीट को जीता हुआ मान रहे हैं या फिर उन्होंने खुद ही मान लिया है यहां मेहनत करने से कुछ नहीं होने वाला ।

जयपाल चावड़ा से कब मुक्त होगी जिला कार्यकारिणी ।

00685.MTS.Still001

चार माह बीते चुके हैं, बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष दौलत भावसार की नाटकीय विदाई के बाद नए जिलाध्यक्ष को बने । लेकिन अभी तक भाजपा की जिला कार्यकारणी की घोषणा नहीं हो पायी है इसी को लकर भाजपा में ही चर्चा जोरो पर  है कि  आखिर जिला कार्यकारणी की घोषणा क्यों नही हो पार रही है । अंदर खाने से छन कर आ रही खबरों पर भरोसा करे तो जिला अध्यक्ष ने कई बार जिला कार्यकारणी की घोषणा करने का प्रयास किया लेकिन यहां भी संभागीय संगठन मंत्री की टांग आड़े आ रही है ।  जयपाल चावड़ा अपनी पंसद की कार्यकारणी बनवाना चाहते ताकि उनके हिसाब-किताब से काम हो ।  लेकिन इस प्रकार की कार्यकारणी पर जिला अध्यक्ष का अंकुश नहीं रहेगा ऐसे में जिला अध्यक्ष को काम करने में परेशानी आ सकती है । बीजेपी जिला अध्यक्ष जिसे कार्यकारिणी में रखना चाहते है उन्हें संभागीय संगठन मंत्री पंसद नही करते । ऐसे में साफ है कि न नौ मन तेल होगा, ना ही राधा नाचेगी । कुल मिला कर साफ है कि भाजपा की जिला कार्यकारणी में उसी को पद मिलेगा जो जयपाल की जय करेगा। वैसे इधर कार्यकर्ता चुटकी लेते हुए बीजेपी जिलाध्यक्ष से कहते भी नज़र आ रहे हैं कि अब तो नई वाहन-वाहिनी भी आ गई, ये नई कार्यकारिणी कब बनेगी ।

 

आंखों देखी- नरेश प्रताप सिंह  

झाबुआ पोस्ट – झाबुआ का सबसे बड़ा डिजिटल प्लेटफार्म है । ताजातरीन खबरों को देखने के लिए जुड़े हमसें । 

फॉलो करें हमारी वेब पोर्टल को  fallowing BUTTUN को दबाकर ।

अभी सबस्क्राइब करें हमारे YOUTUBE चैनल को- https://www.youtube.com/c/Jhabuapost

फेसबुक पर लाइक करें-  झाबुआ पोस्ट के पेज को- https://www.facebook.com/jhabuapost

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.