अमित शाह का दौरा, विधायकों की अग्निपरीक्षा !

web_head copy

Political Post @आलोक कुमार द्विवेदी

6 अक्टूबर को आदिवासी वोटो को साधने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को झाबुआ दौरे पर आना पड रहा है । अमित शाह के इस दौरे की तैयारियों को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान झाबुआ आये और अमीत शाह की उपस्थिती में होने वाले आदिवासी अनुसूचित जाति सम्मेलन की रूप  रेखा पर चार जिलों के भाजपा संगठन पदाधिकारियेा और विधायकों से चर्चा की।  प्रभात झा जिस प्रकार से क्लास ले रहे थे उससे साफ तौर पर दिखाई दे रहा था कि भाजपा भीड को लेकर किसी भी रिस्क लेने के चक्कर में नही है , और जैसा कि प्रभात झा खुद कह चुके हैं कि प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव का शंखनाद करने अमित शाह आ रहे हैं तो फिर 19-20 का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता । इसिलि प्रभात झा और नंदकुमार सिंह चौहान ने एक एक नेता को  उठा कर कार्यक्रम में आने वाली संख्या के बारे मे पूछा । साफ है की भाजपा इस सम्मेलन को लेकर कम दिनो मे अच्छी तैयारीयां अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष को दिखाना चाहती है।

विधायको और नेताओं की अग्नि परिक्षा  ।

राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का दौरा, चुनावी शंखनाद और जनजाति सम्मेलन चारों जिलों के विधायकों के लिए अग्नि परीक्षा है ।  क्योंकि जिस प्रकार अंदर से छन कर खबरें आ रही हे उस पर भरोसा करें तो इस दिन भाजपा संगठन के पदाधिकारियों को इंदौर में बैठक के लिए बुलया गया है । ऐसे में भीड़ लाने से लेकर कार्यक्रम की तैयारियों की पूरी जिम्मेदारी विधायकों पर आ जायेगी और यही सब इस बार विधायको के लिए अग्नि परिक्षा रहेगी। क्योकि अमित शाह का कार्यक्रम उस समय है जब जिले मे फसल की कटाई चल रही है और ग्रामीण फसल की कटाई में लगे है, दूसरी और बड़ी संख्या में ग्रामीण मजदूरी की तलाश में गुजरात, राजस्थान और मालवा में पलायन कर चुके हैं ।  ऐसे में पूरे कार्यक्रम 1 लाख की भीड़ जुटाना विधायकों के लिए बड़ी चुनौती है ।

दरअसल चार जिलों के विधायको को लेकर पार्टी के अंदरूनी सर्वे में रिपोर्ट ठीक नहीं है, विधायकों से नाराजगी की बात भी सामने आ रही है । खुद प्रभात झा कह चकु हैं जीतने वाले को छोड़ा नहीं जाएगा और हारने वाले को लेंगे नहीं । ऐसे में बीजेपी में टिकट वितरण के पहले ये सभी विधायकों का शाह-टेस्ट माना जा रहा है । राष्ट्रीय अध्यक्ष देखना चाहते हैं कि विधायकों की अपने-अपने इलाकों में कितनी पकड़ है और कौन कितनी भीड़ जुटा सकता है ।

लेकिन पलायन और फसल कटाई के बीच ग्रामीणों को सभास्थल तक लाना विधायकों के लिए पसीना निकालने वाला साबित हो सकता है ।केवल झाबुआ जिले की बात करें तो विधानसभा बुथ स्तरीय सम्मेलन बुरी तरह से फ्लॉप हुए हैं, अपेक्षित संख्या से काफी कम लोग इन सम्मेलन में पहुंचे ऐसे में अमित शाह का दौरा विधायकों और पार्टी संगठन के लिए अग्नि-परीक्षा साबित होगा ऐसा माना जा रहा है ।

निर्मला,कलसिह और शांतिलाल आखिर कौन बनेगा सिरमौर ।

अमित शाह का कार्यक्रम झाबुआ जिला मुख्यालय पर है और ऐसे में झाबुआ विधायक शांतिलाल बिलवाल,कलसिह भाबर और निर्मला भूरिया के लिए भीड को ज्यादा से ज्यादा लाना चुनौती है राष्टीय अध्यक्ष के कार्यक्रम मे इन तीनो मे से जो भीड लायेगा वही सिरमौर बनेगा अब देखना यह है कि तीनो मे भीड कौन लायेगा

नागरसिह और माधौसिंह निश्चिंत 

प्रभात झा के दौरे मे अलीराजपुर विधायक नागरसिह चैहान और जोबट विधायक माधौसिह डावर काफी निश्चिंत दिखाई दिये,दोनों के हाव-भाव से समझ में आ रहा था कि  राष्ट्रीय अध्यक्ष के दौरे में अलीराजपुर और जोबट विधानसभा से भीड का रिकार्ड टुट सकता है ।

लगातार खबरों से अपडेट रहने के लिए सबस्क्राइब कीजिए हमारे यूट्यूब चैनल को, बेल आइकन दबाएं और पाएं नए वीडियो और लाइव बुलिटिन की अपडेट । 

https://www.youtube.com/c/Jhabuapost

लाइक कीजिए हमारे फेसबुक पेज को , शेयर करें खबरों को ।https://www.facebook.com/jhabuapost

 

वाट्सएप पर से जुड़ने के लिए क्लिक करें इस लिंक या फिर मैसेज करें 7000146297 पर । 

https://chat.whatsapp.com/DZCnFZAyxukJTIhx4ePEJL

अगर आपके पास भी है कोई खबर, सूचना, जानकारी, फोटो या वीडियो तो हम तक पहुंचाएं हमारे वाट्सएप नंबर पर- jhabuapost@gmail.com

Advertisements


Categories: झाबुआ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: