Breaking Post @अंकित जैन-निर्माणाधीन मकान से गिरकर मजदूर की मौत !

Screenshot_20180816_112206

झाबुआपोस्ट@अंकित जैन । झाबुआ के मौलाना कलाम आज़ाद मार्ग में निर्माणाधीन मकान से गिरकर मजदूर की मौत हो गई है, मजदूर का नाम गोलू बारिया बताया जा रहा है । ठेकेदार की लापरवाही के चलते एक मजदूर को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. ।  मकान गलत तरीके से बनाया जा रहा था, जिसकी शिकायत नगरपालिका और जनसुनवाई में की गई थी । लेकिन शिकायत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई । नियमानुसार नाली के ऊपर मकान का निर्माण कार्य नहीं किया जा सकता लेकिन नियमों को ताक में रखकर इस मकान का निर्माण कार्य किया जा रहा है ।

वहीं निर्माण कार्य में लगे मजूदरों की सुरक्षा को लेकर ना तो ठेकेदार ध्यान देते हैं और ना ही श्रम विभाग ऐसे ठेकेदारों के खिलाफ कोई कार्रवाई करता है । बिना सुरक्षा साधनों के मजदूर कार्य करते हैं, जिसकी वजह से हादसों में मजूदरों को अपनी जान गंवानी पड़ती है । इसके पहले भी निर्माण कार्य में लगे मजूदरों की मौत हो चुकी है लेकिन कड़ी कार्रवाई करने की बजाय मामले रफा-दफा हो जाते हैं । मृतक मजदूर की उम्र 17 साल बताई जा रही है, जिले में चल रहे निर्माण कार्यों में इससे भी कम उम्र के मजदूर लगे हुए हैं ।  लेकिन विभाग की अनदेखी का नतीजा इस तरह के हादसों के रूप में सामने आता है ।

 

Advertisements

Breaking post – झाबुआ SP को 15 अगस्त पर राष्ट्रपति सम्मान

Breaking post @alok

झाबुआ की बंजर पहाडीयों को हरा भरा कर झाबुआ को नया पर्यटन का स्थान देने वाले झाबुआ पुलिस अधीक्षक महेशचंद जैन को इस बार पन्द्रह अगस्त को सराहनीय कार्य के लिए राष्ट्रपति पदक के &लिए चुना गया है श्री जैन ने इसका श्रेय अपने वरिष्ठ अधिकारियों, अपने साथियो और परिवार को दिया है।

Breaking post – Election effect – झाबुआ एएसपी का तबादला, ये होंगे नए एएसपी

Breaking post

झाबुआ की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रचना भदोरिया का तबादला हो गया है , इंदौर नारकोटिक्स में पदस्थ प्रकाश चंद्र परिहार होंगे नए एएसपी ! विधानसभा चुनाव के चलते ये फेरबदल किया गया है. रचना भदौरिया को स.म.नि. पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय इंदौर भेजा गया है! पिछले विधानसभा चुनाव के समय रचना भदौरिया एसडीओपी के पद पर झाबुआ में पदस्थ थी पिछले दिनों चुनाव आयोग ने निर्देश दिए थे कि पिछले चुनाव के समय या 3 साल तक जिले में रहने वाले सभी अधिकारियों का तबादला किया जाएगा.

आंखो देखी@नरेशप्रताप सिंह- भाजपा की बैठक में नज़र आया प्रदीप जोशी का ईगो, जिला कार्यकारिणी का दर्द, पेड़ मैन लाएगा जिले में सियासी सुखा और बीजेपी के महापुरूषों के आंसू ।

आंखो देखी@नरेशप्रताप सिंह- भाजपा की बैठक में नज़र आया प्रदीप जोशी का ईगो, जिला कार्यकारिणी का दर्द, पेड़ मैन लाएगा जिले में सियासी सुखा और बीजेपी के महापुरूषों के आंसू ।

 

 

 

प्रदीप जोशी का ईगो वाह भाई वाह !

भाजपा इन दिनों चुनावी दहलीज पर है और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री तक कह चुके हैं कि देव तुल्य कार्यकर्ताओं का सम्मान करना सीखें और उनसे प्रेमपूर्वक व्यवहार कर उनका दिल जीते ताकि गिले शिकवे दूर हो कर चुनावी नैय्या को पार लगाया जा सके, लेकिन लगता है कि 15 साल की सत्ता में भाजपा के संगठन मंत्रियों को अंहकारी बना दिया वे अपने सामने दूसरे का सम्मान तक करना भूल गये  हैं । इसका  ताजा उदाहारण 4 अगस्त को पेटलावद के निजी गार्डन में उस समय दिखा जब उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री  और अमित शाह की ओर से रतलाम संसदीय क्षेत्र के विशेष दूत स्वतंत्र देव सिह मिशन 2019 की फतह को लेकर कार्यकर्ताओं और बीजेपी पदाधिकारियों के बीच पहुंचे थे । यहां पर उज्जैन संभाग के संगठन मंत्री प्रदीप जोशी भी शोभा बढ़ा रहे थे , खाने की टेबल पर वे जिस  तरह से कार्यकर्ताओं को ट्रीट कर रहे थे वहां तक तो ठीक था लेकिन जब स्वतंत्र देव सिंह कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे उस समय लगा कि  प्रदीप जोशी का घमंड  सातवें आसमान पर पहुंच गया है ।  लगभग पांच मिनिट तक स्वतंत्र देव सिह प्रदीप जोशी का मुख्य गेट पर रास्ता देखते रहे लेकिन संगठन मंत्री के पद में मस्त प्रदीप जोशी मोबाईल से बात करते मदमस्त हाथी की तरह स्वतंत्र देवसिंह की ओर बढ़ते रहे  । प्रदीप जोशी की यह हरकत देख कर कर भले ही स्वतंत्र देव सिंह कुछ नहीं बोले लेकिन वहां पर उपस्थित कार्यकर्ता कहने लगे संगठन मंत्री का ईगो बाबा रे बाबा  !

 

 

करोड़पति पार्टी के कार्यक्रम में फटे हुए पितृ-पुरूष !

भाजपा के बारे मे कहा जाता है कि भाजपा देश की सबसे अमीर पार्टी है लेकिन इस अमीर पार्टी की हकीकत पेटलावद में आयोजित भाजपा की बैठक में दिखाई दी । कार्यक्रम में बीजेपी के पितृ-पुरूषों की तस्वीर लगाई गई थी, कार्यक्रम की शुरूआथ इन्हीं के आगे दीप जलाकर और पुष्प चढ़ाकर की गई ।

लेकिन बीजेपी आज जिन पुरूषों के बलिदान और त्याग से सत्ता के शिखर पर है, कार्यक्रम में पंडित दीनदयाल उपाध्याय और पं. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की फटी हुई तस्वीरें पूजा के लिए रख दी गई । हालांकि गलती छुपाने के लिए टेप से चिपकाया गया । लेकिन फटे पर लाख पैबंद लगाओ दाग दिख ही जाता है ।  जब मीडिया ने बीजेपी के कर्णधारों से सवाल किया तो कहने लगे ऐसा कुछ नहीं है,  लाने-ले जाने में फट गई होगीं,  ये कोई गंभीर बात नहीं है । तो साफ है कि तीन जिलों की बैठक में बीजेपी के महापुरूषों के फटी तस्वीरें उनके अनुयायियों के लिए कोई गंभीर मसला नहीं है, बीजेपी भले ही इस गलती को ना माने लिए महापुरूषों की आत्मा जहां भी है सोचती तो जरूर होगी, कि कहां पर थे और कहां पर आ गए हम ।

 

पुलिस अधीक्षक की शिकायत, पेड़ मैन रहे तो  नहीं जीत सकते चुनाव !

भाजपा की बैठक में कार्यकर्ताओं ने स्वत्रंत देव सिह को पुलिस अधीक्षक की भी शिकायत की  ।  कई कार्यकर्ताओं ने शिकायत में कहा कि हाथीपावा की हरियाली बढ़ती जा रही है लेकिन  ऐसे ही हालात रहे तो जिले में पार्टी के लिए सियासी सुखा आ सकता है ।   स्वतंत्र देव सिंह को एक नहीं कई आला पदों पर बैठे बीजेपी पदाधिकारियों ने कहा कि मौजूदा हालात गंभीर है । आम लोगों की शिकायतों पर कोई ध्यान नहीं है  ।  कई कार्यकर्ताओं ने कहा की वर्तमान पुलिस अधीक्षक कार्यकर्ताओ की बात नहीं सुनते और कांग्रेस के कहने पर कई कार्यकर्ताओं को गलत मामले में फंसा दिया है । जिला संगठन भी इस समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा है । इससे कार्यकर्ता परेशान हैं यदि पुलिस अधीक्षक  के बारे में पार्टी संगठन ने विचार नहीं किया तो चुनाव में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है । स्वतंत्र देव सिंह ने भी कहा कि वे इस मुद्दे पर आलाकमान से बात करेंगे ।

 

आखिर क्यों नही बुलाया दौलत, मोटापाला और गौरसिंह को  ?

बैठक चूकिं  लोकसभा को लेकर थी लेकिन इस बैठक में पूर्व बीजेपी जिलाअध्यक्ष दौलत भावसार , सुरेन्द्रसिह मोटापाल और जिला सहकारी बैंक के चैयरमेन को नहीं बुलाया गया हांलाकि पार्टी सफाई दे रही की उन्हें बुलाया था लेकिन वे नही आये । बीजेपी नेता दौलत भावसार ने दूरभाष पर बताया कि उन्हें इसकी कोई सूचना नहीं है और वे इस वक्त उज्जैन में हैं । उन्हें नहीं बुलाने का कारण वर्तमान जिला अध्यक्ष ही बात सकते हैं ।

 

नहीं याद आये साल भर पहले दिए गए टिप्स । 

9 सितम्बर 2017 को बाफना पब्लिक स्कूल मेघनगर में स्वत्रंत देव सिंह ने कार्यकर्ताओ की स्पेशल क्लास लेते हुए बताया था कि किस तरह से संगठन का काम करना है, और मिशन 2019 में बीजेपी के कमल को खिलाना है ।  लेकिन आश्चर्य की बात  ये है कि 11 माह बाद आये स्वत्रंत देव सिंह के दिये टिप्स ही कार्यकर्ता भूल गये तो संगठन में भी नये जिला अध्यक्ष आ गये । अब हालात ऐसी हो गई की आगे नया पाठ और पीछे बिल्कुल सपाट । कुल मिला कर स्वत्रंत देव सिंह का यह दौरा जमीन हकीकत के बजाय फर्जी जानकारी का ज्यादा रहा हालांकि कार्यकर्ता भी दबी जुबान से कहने लगे कि 11 माह पहले क्या बोला था उन्हें याद नही तो स्वतत्र देवसिह को कहां से यादा होगा । है ना गजब की पार्टी भाजपा ।

ऐसे कैसे जीतेंगे लोकसभा ।

कहते है युद्ध में यदि देरी से पहुंचा जाय तो आधा युद्ध हारा जाना माना जाता है,  कुछ इसी तरह की चर्चा शनिवार को लोकसभा चुनाव की रणनीति को लेकर आयेाजित बैठक में कार्यकर्ताओं के बीच रही । 11 महीने बाद जिले में आने वाले स्वतंत्र देव सिंह 11 बजे पेटलावद पहुंचने वाले थे , लेकिन वे करीब ढाई घंटे की देरी से  पहुंचे और करीब इतने ही समय में कार्यकर्ताओं से  चर्चा कर वापस रवाना हो गए । इस पूरे टाइम मैनेजमेंट को  देखकर तो यह समझ में आता है कि या  तो वे खुद इस सीट को जीता हुआ मान रहे हैं या फिर उन्होंने खुद ही मान लिया है यहां मेहनत करने से कुछ नहीं होने वाला ।

जयपाल चावड़ा से कब मुक्त होगी जिला कार्यकारिणी ।

00685.MTS.Still001

चार माह बीते चुके हैं, बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष दौलत भावसार की नाटकीय विदाई के बाद नए जिलाध्यक्ष को बने । लेकिन अभी तक भाजपा की जिला कार्यकारणी की घोषणा नहीं हो पायी है इसी को लकर भाजपा में ही चर्चा जोरो पर  है कि  आखिर जिला कार्यकारणी की घोषणा क्यों नही हो पार रही है । अंदर खाने से छन कर आ रही खबरों पर भरोसा करे तो जिला अध्यक्ष ने कई बार जिला कार्यकारणी की घोषणा करने का प्रयास किया लेकिन यहां भी संभागीय संगठन मंत्री की टांग आड़े आ रही है ।  जयपाल चावड़ा अपनी पंसद की कार्यकारणी बनवाना चाहते ताकि उनके हिसाब-किताब से काम हो ।  लेकिन इस प्रकार की कार्यकारणी पर जिला अध्यक्ष का अंकुश नहीं रहेगा ऐसे में जिला अध्यक्ष को काम करने में परेशानी आ सकती है । बीजेपी जिला अध्यक्ष जिसे कार्यकारिणी में रखना चाहते है उन्हें संभागीय संगठन मंत्री पंसद नही करते । ऐसे में साफ है कि न नौ मन तेल होगा, ना ही राधा नाचेगी । कुल मिला कर साफ है कि भाजपा की जिला कार्यकारणी में उसी को पद मिलेगा जो जयपाल की जय करेगा। वैसे इधर कार्यकर्ता चुटकी लेते हुए बीजेपी जिलाध्यक्ष से कहते भी नज़र आ रहे हैं कि अब तो नई वाहन-वाहिनी भी आ गई, ये नई कार्यकारिणी कब बनेगी ।

 

आंखों देखी- नरेश प्रताप सिंह  

झाबुआ पोस्ट – झाबुआ का सबसे बड़ा डिजिटल प्लेटफार्म है । ताजातरीन खबरों को देखने के लिए जुड़े हमसें । 

फॉलो करें हमारी वेब पोर्टल को  fallowing BUTTUN को दबाकर ।

अभी सबस्क्राइब करें हमारे YOUTUBE चैनल को- https://www.youtube.com/c/Jhabuapost

फेसबुक पर लाइक करें-  झाबुआ पोस्ट के पेज को- https://www.facebook.com/jhabuapost

Super Exclusive @आलोक कुमार अमित शाह की प्लानिंग पर साल भर से लगा था ब्रेक, अब एक बार फिर तेज हुई कवायद, साल भर बाद याद आई झाबुआ की ।

IkIzg6Sp_400x400

झाबुआ की राजनीति के क्षत्रप कांतिलाल भूरिया और कांग्रेस को घेरने के लिए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक विशेष रणनीति बनाई थी, इसके लिए झाबुआ-रतलाम संसदीय क्षेत्र का प्रभारी बनाया था, यूपी के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को । लेकिन एक बार झाबुआ आने के  बाद स्वतंत्र देव सिंह को अब करीब साल भर बाद फिर से झाबुआ की याद आई है । शनिवार को स्वतंत्र देव सिंह झाबुआ के दौरे पर आ रहे हैं, वे करीब सुबह 11 बजे पेटलावद पहुंचेगे, जहां कार्यकर्ताओं और पार्टी पदाधिकारियों से मिशन 2018 और 2019 को लेकर चर्चा करेंगे । इसके पहले सिंह सितंबर 2017 में झाबुआ दौरे पर पहली बार पहुंचे, मेघनगर के एक निजी स्कूल में बीजेपी के कार्यकर्ताओं-नेताओं की बैठक लेकर आगामी चुनाव को लेकर रणनीति पर चर्चा की थी ।

इस दौरे के बाद स्वतंत्र देव सिंह अब दोबारा झाबुआ पहुंच रहे । स्वतंत्र देव सिंह की इस दूरी को लेकर भी सियासी गलियारों में चर्चा का दौर काफी गर्म रहा । जिले की सियासी हालातों और कार्यकर्ताओं से मिलने वाले फीडबैक को स्वतंत्र देव सिंह सीधे अमित शाह को रिपोर्ट करते हैं  ।

2014 के लोकसभा चुनावों में रतलाम-झाबुआ संसदीय सीट पर बीजेपी ने कब्जा जमाया था, लेकिन सांसद दिलीप सिंह भूरिया के निधन के बाद उपचुनाव में साल भर के बाद ही मोदी लहर में खिला बीजेपी का कमल मुरझा गया, और कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया एक बार फिर से सांसद बने । स्वतंत्र देव सिंह को प्रभारी बना अमित शाह की मिशन 2019 रणनीति का हिस्सा है लेकिन इस पूरी कवायद से म.प्र. का मिशन 2018 भी अछूता नहीं रहेगा ।

 

झाबुआ पोस्ट तेजी से उभरता हुआ डिजिटल प्लेटफार्म है । ताजातरीन खबरों को देखने के लिए जुड़े हमसें । लिंक पर क्लिक और जुड़े खबरो के साथ । https://chat.whatsapp.com/DZCnFZAyxukJTIhx4ePEJL

सबस्क्राइब करें हमारे YOUTUBE चैनल को- https://www.youtube.com/c/Jhabuapost

फेसबुक पर लाइक झाबुआ पोस्ट के पेज को- https://www.facebook.com/jhabuapost

अगर आपके पास भी है कोई खबर, सूचना, जानकारी, फोटो या वीडियो तो हम तक पहुंचाएं हमारे वाट्सएप नंबर पर.  Whatsapp –  9009305600 या फिर मेल करें  jhabuapost.gmail.com

Super Exclusive Post- जंजीरों में जकड़ा युवक, किसने दी ये सजा !

Jhabuapost- जंजीरों में जकड़ा युवक, किसने दी ये सजा ! पूरी खबर देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें ।
और अधिक खबरों के लिए सबस्क्राइब करें हमारा Youtube चैनल.