Video Post- पंगत, संगत और कानाफूसी !

पिछले दिनों दिग्विजय सिंह एकता यात्रा लेकर झाबुआ पहुंचे थे, दिग्विजय सिंह की पंगत, संगत और कानाफूसी को लेकर देखिए अंकित जैन की ये खास रिपोर्ट ।

Advertisements

आवेदन पर कार्रवाई के लिए महिला को देना पड़ा धरना, 10 दिन बाद भी थाने में ही घूमता रहा आवेदन !

झाबुआ-महिला शिकायत को लेकर पुलिस कितनी गंभीर है देखिए अंकित जैन की इस खास रिपोर्ट में ।

 

महिला की शिकायत पर 10 दिन बाद भी नहीं कोई कार्रवाई , आज से बैठेगी थाने के बाहर धरने पर !

झाबुआ पुलिस रीयल पुलिसिंग की बजाय फेसबुक फ्रेंडली कामों के लिए ज्यादा जानी जाती है, अभियानों के नारे जमीन पर उतरने का नाम नहीं ले रहे हैं, एक तरफ पुलिस जिले में महिला सश्कितकरण अभियान को लेकर पिपौड़ी बजा रही है, लेकिन कमाल की बात ये है कि उसकी आवाज़ जिला मुख्यालय पर स्थित कोतवाली थाना और वहां बैठे पुलिसकर्मियों तक ही नहीं पहुंच पा रही है ।

जिले की एक महिला और उसका परिवार पिछले 10  दिनों से तनाव और अवसाद से गुजर रहा है, लेकिन झाबुआ पुलिस उसके शिकायती आवेदन को कचरे की टोकरी में डाल कर बैठी है ।

6 जुलाई को महिला ने अपने परिवार के साथ शिकायत की थी अनजान नबंर आपत्तिजनक मैसेज आ रहे हैं महिला को परेशान किया जा रहा है । लेकिन झाबुआ पुलिस की गंभीरता देखिए कि 10 दिन बात भी पुलिस ना तो आरोपी का पता लगा पाई है और ना ही उसके मोबाईल नंबर ट्रेस कर पाई ।

इस दौरान पीड़ित महिला अपने परिवार के साथ थाना प्रभारी, एसडीओपी को भी अवगत करा चुकी है, महिला ने दो दफा जिले के पुलिस कप्तान को भी कॉल किया लेकिन महिला सशक्तिकरण का दंभ भरने वाले एसपी ने महिला का कॉल तक रिसीव नहीं किया । पिछले 10 दिनों में महिला और उसका परिवार थाने की चौखट चुमकर न्याय की गुहार लगा रहा है , पुलिस अपनी मस्ती है, जिले में चल रहे महिला सशक्तिकरण अभियान और फेसबुक के लाइक देखकर खुश है कि महिला अपराध थम गए हैं, अब उन्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं ।

धन्नासेठ होते तो अब हो जाती कार्रवाई-

कुछ महीनों पहले नगर एक कपड़ा व्यापारी के लड़के के साथ हुई लूट की घटना के बाद पुलिस ने  2 घंटे की भीतर ही मोबाईल ट्रेस कर लिया था, लेकिन इस मामले में 10 दिन बीत जाने के बाद भी पीड़ित महिला का आवेदन एक- टेबल से दूसरी टेबल घूमाया जा रहा है । पीड़ित परिवार धन्नासेठ की तरह पुलिस से  संबंध नहीं निभा सकता, वरना ये मामला भी 2 घंटे में ट्रेस हो सकता था । पुलिस का कहना है कि वो बड़ी लूट का मामला था इसलिए तेजी दिखानी पड़ी, तो क्या एक महिला के स्वाभिमान और  सम्मान की कीमत झाबुआ पुलिस की नज़रों में कुछ भी नहीं है ।

महिला और परिवार बैठेगा धरने पर

10 दिन बाद भी पुलिस कार्रवाई नहीं होने से नाराज महिला अपने परिवार के साथ थाने पर धरने पर बैठेगी, महिला के मुताबिक बारिश आए या चाहे जो भी हो जाए आरोपी के पकड़े जाने तक वो अपने परिवार के साथ कोतवाली थाने के बाहर धरने पर बैठेगी ।

क्या इंदौर मामले से भी पुलिस नहीं लेगी सबक ?

पिछले दिनों इंदौर में छेड़खानी से परेशान छात्रा के आत्महत्या के मामले से भी झाबुआ पुलिस सबक लेने को तैयार नहीं है । मामले में शिकायत के बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी, परेशान छात्रा ने आत्महत्या कर ली थी ।  महिला और उसका परिवार भारी तनाव में है, लेकिन पुलिस आवेदन को गंभीरता से नहीं  ले रही है ।

गृहमंत्री भुपेन्द्र सिंह कह चुके हैं की महिला शिकायत पर कार्रवाई ना करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होगी, तो क्या गृहमंत्री अपनी बात पर कायम रहते हैं जिले में तैनात अधिकारियों पर कोई कार्रवाई करेंगे ।

Breaking Post- दिग्विजय सिंह की चुनौती, कबूल करेंगे मामा शिवराज !

Jhabuapost@ankit j jain

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय एकता यात्रा लेकर झाबुआ पहुंचे जहां उन्होंने प्रदेश सरकार पर जमकर घेरा, सिंह ने कई संगीन आरोप लगाए हैं, उन्होंने प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान पर आरोप लगाए हैं, क्या कुछ कहा दिग्विजय सिंह ने सुनिए आप भी.

Breaking Post- चाय पीने से एक ही परिवार के 9 लोग बीमार, 2 आईसीयू में !

photo+01

झाबुआपोस्ट@ankit jain

चाय पीने के बाद एक ही परिवार के 9 लोग बीमार पड़ गए । झाबुआ के मेलपाड़ा गांव के रहने वाले खुमसिंह के परिवार के लोगों ने जब सुबह की चाय पी उसके बाद उल्टियां करना शुरू कर दी । जिसके बाद उन्हें जिला अस्पताल लाया गया । जहां फिलहाल उनका चल रहा है । बीमार में 6 बच्चे भी शामिल हैं । वहीं खुमसिंह की पत्नी की हालत गंभीर है, उसे आईसीयू में भर्ती करवाया गया है ।

परिवार के मुखिया खुमसिंह ने बताया कि सुबह चाय पीने के बाद सभी उल्टियां शुरू हो गई । घर में चाय पत्ती नहीं थी, पड़ोसी से चायपत्ती मांगकर लाए उसके बाद चाय बनाई गई । चाय पीने के बाद सभी को उल्टियां होने लगी ।

जिला अस्पताल में ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर संदीप ठाकुर ने बताया कि अभी सभी हालात सामान्य है ,  फूड पॉइज़निंग का मामला लग रहा है, लेकिन पूरी तरह से कुछ मेडिकल रिपोर्टस् आने के बाद ही कहा जा सकता है ।

 

Breaking Post – शादी समारोह से लौट रहा परिवार हुआ हादसे का शिकार, 2 लोगों की मौत

Breaking post

झाबुआ के अंतरवेलिया में दर्दनाक सड़क हादसा, बोलेरो और ट्रक की टक्कर , हादसे में
6 साल के बच्चे समेत मौके पर 2 की मौत,
दो गंभीर रूप से घायलों गुजरात के बड़ौदा किया रैफर, शादी समारोह से लौट रहा था परिवार, राणापुर से मदरानी लौट रहा था परिवार,अंतरवेलिया गांव में झाबुआ-मेघनगर मार्ग पर हुआ हादसा,हादसे में नंदलाल गारी और 6 साल के दक्ष की मौत, घटना करीब सुबह 4:00 बजे की ,घटना के बाद ट्रक चालक ट्रक समेत फरार.

Watch- क्या हुआ जब प्रभारी मंत्री पहुंचे जिला अस्पताल !

01171.MTS.Still001

झाबुआपोस्ट@ankit jain

जिले के दौरे पर आए प्रभारी मंत्री जब अचानक सोमवार रात को करीब 9 बजे जिला अस्पताल पहुंचे तो अधिकारियों में हड़कंप मच गया । हालांकि दिन में जिला योजना समिति की बैठक के दौरान ही प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग ने साफ कर दिया था कि वे रात को झाबुआ ही रूकेंगे और कहीं पर भी जाकर निरीक्षण कर सकते हैं । इसके बावजूद जिला अस्पताल प्रबंधन लापरवाह बना रहा  । देखिए क्या हुआ जब प्रभारी मंत्री जिला अस्पताल पहुंचे ।